मंगलवार, फ़रवरी 7, 2023

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा – रातों-रात फायदा

दिनचर्या में अनियमितता और खानपान सही ना होना पेट के कीड़े होने का कारण बनते हैं। पेट के कीड़े के लक्षण सभी व्यक्तियों में सम्मान दिखते हैं जिनमें से भूख ना लगना, पेट में दर्द होना, और वजन घटना इत्यादि आम पेट के कीड़े के लक्षण में से एक हैं।

सामान्यत पेट के कीड़े बच्चों में अधिक पाए जाते हैं। कुछ पेट के कीड़े ऐसे होते हैं जो पेट के अंदर ही रहते हैं, लेकिन जो कीड़े मल के रास्ते बाहर आ जाते हैं उन्हें हम पिनवॉर्म कहते हैं। इस लेख में हम कृमि रोग (पेट के कीड़े होना) के लक्षण और उपचार के बारे में जानेंगे। यदि आप पिनवॉर्म के घरेलू उपचार के बारे में खोज रहे हैं तो आप इससे संबंधित लेख को पढ़ सकते हैं।

कृमि रोग के कारण 20 से अधिक प्रकार के कीड़े पेट में पाए जाते हैं। इन कीड़ों के कारण पेट में बहुत दर्द रहता है और इसके साथ-साथ यह कीड़े पेट में घाव भी कर देते हैं। पेट के कीड़े के लक्षण आप आसानी से पहचान सकते हैं, और पेट के कीड़े की आयुर्वेदिक दवा और पेट के कीड़े के घरेलू उपचार से आप इनका इलाज कर सकते हैं।

पेट के कीड़े होने का कारण

खराब जीवनशैली और दूषित आहार लेने के कारण कृमि रोग यानी पेट में कीड़े की समस्या उत्पन्न होती है। जो व्यक्ति बाहर का खाना खाते हैं और व्यायाम नहीं कर पाते उन्हें पेट के कीड़े होने की संभावना बढ़ जाती है।

पेट के कीड़े होने के मुख्य कारण:

  • दूषित आहार
  • खराब जीवनशैली
  • खाने से पहले हाथ ना धोना
  • बासी भोजन करना
  • सारा दिन आराम करना
  • दूषित जल का सेवन
  • बच्चों का मिट्टी खाना

पेट के कीड़े के लक्षण

  • जीभ का रंग सफेद रहता है व मोटी नजर आती है।
  • आंखों का रंग लाल रहता है।
  • मुंह से हमेशा दुर्गंध आती है।
  • बच्चों के दांत बजना पेट के कीड़े का लक्षण है।
  • होठों का रंग सफेद और गालों पर धब्बे दिखाई पड़ना।
  • मल में खून आना
  • हमेशा उल्टी करने का एहसास होना।

पेट के कीड़े की घरेलू दवा

यदि आप किसी बच्चे या वयस्क में पेट के कीड़े के लक्षण देखते हैं, तो आप इसका घरेलू इलाज कर सकते हैं। हमने पेट के कीड़े की घरेलू दवा को यहां पर बताया है। आप इनका उपयोग करके पेट के कीड़ों को मार सकते हैं और इस समस्या से निजात पा सकते हैं।

1. अनार से पेट के कीड़ों का इलाज

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
अनार छिलके के चूर्ण से कृमि का ख़ात्मा

अनार के फायदे अनेकों प्रकार के हैं। पेट के कीड़ों का इलाज इनमे से एक है। अनार के छिलकों को सुखाकर इसका चूर्ण बना लें और दिन में तीन से चार बार एक एक चम्मच लेने से पेट के कीड़ों का खात्मा होता है। अनार के छिलकों का चूर्ण वयस्कों और बच्चों को दिया जा सकता है।

पढ़ें: अनार के फ़ायदे

2. अजवाइन-पेट के कीड़ों की घरेलू दवा

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
अजवाइन-पेट के कीड़ों की घरेलू दवा

अजवाइन में एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं जो पेट के कीड़ों को मारने का काम करते हैं। पेट के कीड़ों को समाप्त करने के लिए अजवाइन को 2 तरीके से लिया जा सकता है।

  1. 1 ग्राम अजवाइन चूर्ण लें और उसमें दो चुटकी काला नमक मिला ले। अब इस अजवाइन और काला नमक के मिश्रण को रात को सोते समय गर्म पानी के साथ सेवन करें। ऐसा करने से बच्चों में पेट का कीड़ा समाप्त होता है। यदि किसी वयस्क के पेट में कीड़े हैं तो आधा ग्राम काला नमक और समान मात्रा में अजवाइन चूर्ण का मिश्रण लेना चाहिए।
  2. 1 ग्राम गुड और उसमें आधा ग्राम अजवाइन का चूर्ण मिलाकर उसकी गोली बना लें। दिन में 3 बार इस गोली का सेवन करने से पेट के कीड़े समाप्त होते हैं।

3. अरंडी के तेल से कृमि रोग का इलाज

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
पेट के कीड़ों का दुश्मन अरंडी का तेल

अरंडी का तेल कृमि रोग में बहुत ही उपयोगी होता है। रात को सोते समय अरंडी के तेल का सेवन गर्म दूध के साथ करें। ऐसा करने से पेट के कीड़े मार जाते हैं और माल के रास्ते बाहर आते हैं। अरंडी का तेल पेट के कीड़ों का रामबाण इलाज है।

यदि दूध उपलब्ध ना हो तो अरंडी के तेल का सेवन गर्म पानी के साथ कर सकते हैं।

4. हींग से कृमि रोग का इलाज

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
हींग से कृमि रोग का इलाज

कृमि रोग का इलाज हींग से किया जा सकता है। रात को सोने से पहले दो चुटकी हींग और एक चम्मच काला नमक मिलाकर गर्म पानी के साथ सेवन करें। ऐसा करने से पेट के कीड़े मर जाते हैं और मल के रास्ते बाहर आते हैं।

हींग और काले नमक के मिश्रण का सेवन रात को सोने से पहले और सुबह नाश्ता करने से पहले करें।

5. नीम के पत्ते

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
नीम के पत्तों से पेट में कीड़ों का इलाज

नीम के पत्ते पेट के कीड़ों की घरेलू दवा है। 15 से 20 नीम के पत्तों को पीसकर उसका पेस्ट बना लें और उसमें शहद मिलाकर सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। ऐसा करने से पेट के कीड़े नष्ट होते हैं।

  • बैंगन की सब्जी के साथ 10 से 12 नीम के पत्ते छोंक लें। इस सब्जी का सेवन करने से पेट के कीड़े खत्म होते हैं।
  • नीम की छाल का चूर्ण, इंद्रजौ व वायविडंग को बराबर मात्रा में लें और इसका महीन चूर्ण बना लें। इस चूर्ण में 2 ग्राम भुनी हुई हींग मिलाकर इसका सेवन करें। सुबह शाम इस मिश्रण का सेवन करने से पेट के कीड़े खत्म होते हैं।

6. लहसुन से पेट के कीड़ों का इलाज

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
लहसुन से पेट के कीड़ों का इलाज

बच्चे और वयस्क दोनों ही लहसुन से पेट के कीड़ों का इलाज कर सकते हैं। लहसुन की चटनी में सेंधा नमक को मिला लें और सुबह शाम इस चटनी का सेवन करें। लहसुन की चटनी और सेंधा नमक के मिश्रण का सेवन करने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

यदि किसी को बवासीर की बीमारी है, तो लहसुन की चटनी का सेवन ना करें। क्योंकि ऐसा करने से पेट के कीड़े तो मर जाएंगे परंतु बवासीर की समस्या बढ़ सकती है।

7. तुलसी का रस

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
तुलसी रस – पेट के कीड़े मारे

10 से 15 तुलसी पत्ते लें और उन्हें पीसकर उनका रस निकाल लें। प्रातः खाली पेट एक चम्मच तुलसी का रस और रात्रि भोजन करने से 2 घंटा पहले तुलसी पत्ते का रस का सेवन करें। दिन में दो बार तुलसी के रस का सेवन करने से पेट के कीड़े मर जाते हैं और मल के रास्ते बाहर निकलते हैं।

8. टमाटर से पेट के कीड़ों को खत्म करें

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
टमाटर से पेट के कीड़ों को खत्म करें

एक टमाटर को आधा काट लें और उसमें काली मिर्च चूर्ण व सेंधा नमक के मिश्रण को मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोने से पहले सेवन करें। टमाटर, काली मिर्च, सेंधा नमक का मिश्रण पेट के कीड़ों को खत्म करने में समर्थ है और इसका सेवन बच्चे और वयस्क दोनों कर सकते हैं।

9. लौंग से करें बच्चों के पेट के कीड़ों का इलाज

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
लौंग से करें बच्चों के पेट के कीड़ों का इलाज

रात को लॉन्ग को पानी में भिगोकर रख दें, सुबह उस पानी का सेवन बच्चे को खाली पेट कराएं। लॉन्ग के पानी से बच्चे के पेट में कीड़ों का खात्मा होता है।

10. कच्चा पपीता करें पेट के कीड़ों का खात्मा

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
कच्चा पपीता खाके करें पेट के कीड़े समाप्त

एक चम्मच दूध, एक चम्मच शहद, समान मात्रा में कच्चा पपीता मिलाकर मिश्रण बना लें। तैयार हुए मिश्रण के समान मात्रा में उबला हुआ पानी मिलाकर इसका सेवन करें। इस मिश्रण का सेवन करने से पेट के कीड़े समाप्त होते हैं।

11. हल्दी दूध का सेवन

पेट के कीड़े के लक्षण, घरेलू दवा - रातों-रात फायदा
हल्दी दूध का सेवन करे पेट के कीड़े ख़त्म

करक्यूमिन तत्व हल्दी में मौजूद होता है जो पेट के कीड़ों को मारने में कारगर है। इसके साथ साथ हल्दी में सूक्ष्मजीवरोधी (एंटीमाइक्रोबियल्स) और एंथेल्मिटिक्स गुण मौजूद होते हैं जो पेट में मौजूद कीड़ों को बाहर निकालने में मदद करते हैं। छोटे बच्चों को दूध में हल्दी मिलाकर उसका सेवन कराना चाहिए ऐसा करने से पेट के कीड़े मरते हैं।

बच्चों के पेट में कीड़े का इलाज

  • अमरूद के फायदे अनेक प्रकार के हैं। अमरूद का सेवन करने से छोटे बच्चों के पेट के कीड़े खत्म होते हैं। बच्चों को काले नमक के साथ अमरूद का सेवन करवाना चाहिए जिससे पेट के कीड़े खत्म होने के साथ-साथ पाचन क्रिया भी ठीक होती है।
  • टमाटर का सेवन करवाना छोटे बच्चों के पेट के कीड़े खत्म करने में फायदेमंद है। टमाटर को काली मिर्च और सेंधा नमक के साथ खिलाने से पेट के कीड़े समाप्त होते हैं।

पेट में कीड़े होने से बचने के उपाय

पेट में कीड़े होने से बचने के लिए जीवन शैली में बदलाव और साफ सफाई के साथ-साथ आहार में बदलाव लाना भी काफी जरूरी है। नीचे कुछ ऐसे उपाय दिए गए हैं जिन्हें अपनाकर आप पेट में कीड़े होने से बच सकते हैं।

  • जो बच्चे मिट्टी में खेलते हैं, माता पिता उनका ध्यान रखें कि वह मिट्टी का सेवन न करें।
  • जो भोजन खुले में बनता है जैसे बाजार इत्यादि में ऐसे भोजन का सेवन ना करें।
  • पीने के लिए साफ जल का प्रयोग करें, और अगर संभव हो तो पानी को उबालकर ठंडा करके उसका सेवन करें।
  • बासी भोजन का सेवन ना करें, किसी भी भोजन का सेवन करने से पहले सुनिश्चित करें कि वह दूषित तो नहीं है।
  • मीठे और डिब्बाबंद भोजन का सेवन करने से बचें।
  • भोजन को अच्छी प्रकार पका कर उसका सेवन करें।
  • पेट में कीड़े की संभावना होने पर कच्ची सब्जियां ना खाएं।
  • मीठे भोजन और कच्चे मास का सेवन ना करें।
  • धुले हुए और साफ-सुथरे बर्तनों में भोजन करें।
  • खाना खाने से पहले हाथों को अच्छी प्रकार से धो लें।
  • खाना खाने के पश्चात दांतो की सफाई अवश्य करें।

पेट में कीड़े होना पेट में घाव तक का कारण बनते हैं। यदि ज्यादा समय से कोई बच्चा या व्यस्त पेट के कीड़ों से, कृमि रोग से ग्रस्त हैं तो एनीमिया रोग भी इससे उत्पन्न हो सकता हैं। इसीलिए हमेशा साफ सफाई का ध्यान रखें, और शुद्ध भोजन का सेवन करें।

सम्बंधित लेख

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

हमसे जुड़े रहें

3,703फॉलोवरफॉलो करें
0सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

नवीनतम लेख